आचार्य प्रशांत आपके बेहतर भविष्य की लड़ाई लड़ रहे हैं
लेख
लोगों को आप से प्यार नहीं || नीम लड्डू
Author Acharya Prashant
आचार्य प्रशांत
1 मिनट
33 बार पढ़ा गया

यह जगत तो लाभ का सौदागर है। वो आप से नहीं प्रेम करता; आपसे जो मिल रहा है उसे से प्रेम करता है। और इस बात का बड़ा कड़वा अनुभव आपको तब होता है जब आप देना बंद कर देते हैं। आप तो यही सोचते रह गए कि उस व्यक्ति को आप से प्रेम है। यह देखा ही नहीं कि आप से उसको मिल क्या-क्या रहा है।

और फिर ज़रा उम्र बड़ी, ज़रा आय घटी, दे पाने की क्षमता घटी, तो तिरस्कृत हो गए वृद्धाश्रम पहुँच गए। तब समझ में आया कि, ‘हम से नहीं प्यार था किसी को। सुविधाओं से प्यार था।‘

क्या आपको आचार्य प्रशांत की शिक्षाओं से लाभ हुआ है?
आपके योगदान से ही यह मिशन आगे बढ़ेगा।
योगदान दें
सभी लेख देखें