आचार्य प्रशांत आपके बेहतर भविष्य की लड़ाई लड़ रहे हैं
लेख
ख़तरनाक है ऐसा आदमी || नीम लड्डू
Author Acharya Prashant
आचार्य प्रशांत
1 मिनट
34 बार पढ़ा गया

जिस आदमी के पास स्वार्थ नहीं है वो बहुत ख़तरनाक हो जाता है, क्योंकि अब उसे मजबूर किया नहीं जा सकता; तुम उसकी जान ले सकते हो, उसे मजबूर नहीं कर सकते हो। जिसे मजबूर किया जा सकता हो, जिसे ग़ुलाम बनाया जा सकता हो; जान लो कि ऐसे ही छोटा, टुच्चा, स्वार्थवश चलता है।

जिससे हमें कुछ ना मिलता हो उससे हम दो पल रुक कर बात भी करना पसंद करते हैं क्या? बोलिए! बात भी किसी से हम तभी करते हैं, जब या तो कुछ मिल रहा हो या भविष्य में मिलने की उम्मीद हो या बात ना करने से कुछ नुक़सान होने की आशंका हो; तब हम किसी को अपने ३० सेकंड भी देते हैं। ऐसा ही है कि नहीं है?

क्या आपको आचार्य प्रशांत की शिक्षाओं से लाभ हुआ है?
आपके योगदान से ही यह मिशन आगे बढ़ेगा।
योगदान दें
सभी लेख देखें