आचार्य प्रशांत आपके बेहतर भविष्य की लड़ाई लड़ रहे हैं
लेख
बड़े आदमी की पहचान || नीम लड्डू
Author Acharya Prashant
आचार्य प्रशांत
1 मिनट
101 बार पढ़ा गया

ग़लती मानना बहुत बड़े लोगों का काम है। छोटे आदमी की पहचान ही यही है कि वह अपनी ग़लतियों पर हमेशा पर्दा डालता नज़र आएगा। क्योंकि उसे छोटा ही रहना है, छोटा है छोटा रहना है। वह ग़लती पर बार-बार पर्दा डालेगा, स्वीकारेगा नहीं। बड़े आदमी को छोटा रहना नहीं है, वह छोटा फँस गया है, वो संयोगवश छोटा है पर उसका इरादा नहीं है छोटा रहने का। तो वह जहाँ-जहाँ जैसे-जैसे अपनी ग़लती देखता जाएगा वैसे-वैसे अपनी ग़लती उखाड़ता जाएगा। और यही तरीका होता है बड़ा होने का। अपने छुटपन को छुपाओ तो नहीं ही, सक्रिय रुप से उखाड़ते चलो। सौ में एक-आध लोग होते हैं जो अपनी ग़लतियाँ ही गिनते नज़र आते हैं, ये वो हैं जो अपनी ग़लतियों के आगे निकल जाते हैं।

क्या आपको आचार्य प्रशांत की शिक्षाओं से लाभ हुआ है?
आपके योगदान से ही यह मिशन आगे बढ़ेगा।
योगदान दें
सभी लेख देखें