✨ A special gift on the auspicious occasion of Sant Ravidas Jayanti ✨
Articles
बारह प्रकार के धोखे || आचार्य प्रशांत, गुरु मिलारेपा पर (2013)
Author Acharya Prashant
Acharya Prashant
1 min
98 reads

प्रसंग:

  • बारह प्रकार के धोखे कौन - कौन सी हैं?
  • आकर्षण - विकर्षण दोनों को गुरु मिलारेपा ने भ्रम क्यों बताए है?
  • ध्यान क्या है?
  • ध्यान कैसे करे?
  • गुरु मिलारेपा "मित्र और सेवक" दोनों को कपटी क्यों बताए है?
  • कैवल्य का क्या अर्थ है?
Have you benefited from Acharya Prashant's teachings?
Only through your contribution will this mission move forward.
Donate to spread the light
View All Articles